Votership


     वोटरशिप मूल भावसंदेशहोम पेज भरत गांधीसंम्पर्क करेंडाउनलोड्स

 

वोटरशिप होमपेज

खण्ड-तीन

2.  आर्थिक आजादी परिसंघ नामक जनसंगठन

    द्वारा कारित प्रयास                

    1.  परिसंघ के संसदीय प्रकोश्ठ की याचिका समिति द्वारा

      संपादित कार्य                    

    2.  आर्थिक आजादी आंदोलन परिसंघ का परिचय   

    3. आर्थिक आजादी आन्दोलन परिसंघ द्वारा संपादित कार्य

 

2. आर्थिक आजादी परिसंघ नामक जनसंगठन द्वारा कारित प्रयास

1.परिसंघ के संसदीय प्रकोश्ठ की याचिका समिति द्वारा संपादित कार्य-

(क)  समिति का परिचय

       आर्थिक आजादी आंदोलन परिसंघ ने नवम्बर 2004 में संसदीय प्रकोश्ठ के नाम से एक नया प्रकोश्ठ कायम किया। परिसंघ  के  केन्द्रीय कार्यकर्ता  भरत गांधी ने इसका प्रभार अपने ऊपर लिया और सुप्रीम कोर्ट के वरिश्ठ अधिावक्ता विरेन्द्र बंधू की अध्यक्षता में याचिका समिति के नाम से वोटरषिप के विशय में लोकसभा में याचिका दायर करने के लिए एक कार्य समिति का गठन किया।  समिति ने 6 दिसम्बर 2004 से अपना कार्य प्रारंभ किया। इन पंक्तियाें के लिखे जाने की तारीख 23 दिसम्बर 2005 तक समिति ने  लोकसभा के 227 सदस्यों के साथ बैठकें करके वोटरषिप संबंध में इस याचिका को लोकसभा में प्रस्तुत करने के लिए निवेदन किया।  समिति के साथ पर्याप्त बातचीत व बहस के बाद 75 सांसदों ने याचिका प्रस्तुत करने के लिए लिखित सूचना दिया और 170 से अधिक  सांसदों ने ऐसा करने का आष्वासन दिया, कुछ ने इस प्रस्ताव से अपनी असहमति व्यक्त किया। लोकसभा को लिखित सूचना देने वाले सांसदों के नामों, दलों और उनके प्रदेषों से परिचित  होने के लिए इस याचिका के अध्याय 1314 का संदर्भ ग्रहण करें।

 

 

(ख)  समिति के सदस्य

नाम       उम्र   पद   व्यवसाय

  इन्द्र मकवाना     78       अध्यक्ष   वरिश्ठ अधिावक्ता-सुप्रीम कोर्ट

  सुनील आन्नद     54       उपाध्यक्ष व्यवसायी

  बलिराम षर्मा      60       उपाध्यक्ष अ.प्रा अधिकारी-केन्द्र सरकार

  डॉ स्वाती भटनागर 39       महासचिव चिकित्सा

  विरेन्द्र बंधू        75       सदस्य   वरिश्ठ अधिवक्ता-सुप्रीम कोर्ट

  रोषन लाल अग्रवाल 55       सदस्य   व्यवसायी व आर्थिक विष्लेशक

  राजेष षर्मा        37       सदस्य   पत्रकार- इलैक्ट्रॉनिक मीडीया

  असित कुमार राय  42       सदस्य   अधिवक्ता-हाई कोर्ट

  सुरेश कुमार शर्मा  39       सदस्य   बिजनेस कन्सल्टैन्ट 

 

 

 

(ग) समिति का पता-

सुझाव/षिकायत/पूंछताछ/सहयोग करने के लिए -

फोन करें - 9818433422,9868062400, 9313041596, 0121-2763037

पत्र लिखें - याचिका समिति कार्यालय :

          सुनील आनंद, प्रभारी-

          बी 5/124 पष्चिम विहार, दिल्ली-110063

          ई मेल करें - bgandhi_pse@votership.com

                                वेब साइट - www.fefm.org

                                        -  www.votership.com का अवलोकन करें।

(घ)  सांसदों से मुलाकात अभियान -

      भारत के इतिहास में यह पहली याचिका है, जिसे इतनी अधिक संख्या में सांसद पेश कर रहे है। इन अर्थों में यह एक ऐतिहासिक याचिका है । अब तक की याचिकाएं एक या दो सांसद ही पेश करते रहे हैं। किन्तु इस याचिका का विषय ऐसा था जिसका सभी सांसदों से रिश्ता बनता था। कारण यह है कि सभी सांसदों के चुनाव क्षेत्र में गरीब लोग है, सभी के क्षेत्र में बेरोजगार लोग हैं, सभी का चुनाव क्षेत्र विश्व व्यापार संगठन से प्रभावित हुआ है और सभी लोगों को ठीक से राज्य कर्म करने के लिए राजनैतिक वित्ता की आवश्यकता होती है। चूंकि याचिका किसी भी सांसद के लिए अपने क्षेत्र के जनहित की मांग संसद तक पहुंचाने का एक माध्यम होती है। इसलिए वोटरशिप के विषय में पेश की जा रही याचिका का संबंध सभी सांसदों से जुड़ गया।

      इसी रिश्ते के मद्देनजर याचिकाकर्तागण एक-दो की बजाय अधिकांश सांसदों से याचिका पेश करने का निवेदन करने की नीति बनाया। इस नीति के तहत दिनांक 6 दिसम्बर 2004 (शीतकालीन सत्र) से लेकर दिनांक 23 दिसम्बर 2005 शीतकालीन सत्र  तक कुल 228 सांसदों के साथ वोटरशिप के मुद्दे पर विचार-विमर्श किया गया व उनसे याचिका पेश करने वाले सांसदों के समूह में शामिल होने के लिए निवेदन किया गया।

      कुछ सांसदों के साथ विमर्श कई दौर का हुआ। किसी के साथ एक बैठक, किसी के साथ दो, किसी के साथ तीन, यहाँ तक की चार-चार बैठकें भी एक सांसद के साथ किया गया और वोटरशिप के हर पहलू से उनको परिचित कराया गया। सांसदों के साथ बैठकों का सिलसिला चलाने का परिणाम यह हुआ कि कुछ सांसदों ने वोटरशिप के प्रस्ताव को पहली नजर में ही खारिज कर दिया, कुछ उदासीन रहे, कुछ ने अपनी पार्टी के नेतृत्व से अनुमति लेने के बाद याचिका पेश करने की बात कही, कुछ लोगों ने मामले का पूरा अध्ययन करने के बाद जब देखा कि याचिकाओं के मामले में दल की कोई भूमिका नही हाती; तो उन्होंने याचिका की प्रार्थना को प्रतिहस्ताक्षरित किया और लोकसभा को यह याचिका पेश करने के विषय में पत्र लिखा।

      23 दिसम्बर 2005 को जब शीतकालीन सत्र समाप्त हुआ, तो कुल 228 सांसदों से मुलाकात किया जा चुका था, जिसमें से 76 सांसदों ने याचिका की प्रार्थना के समर्थन मेेंं इसे लोकसभा में पेश करने के विषय में लोकसभा को पत्र लिखा था। यह अभियान शीतकालीन सत्र 2004 से शुरू हुआ था, इसलिए 2005 के शीतकालीन सत्र तक पहले चक्र को समाप्त करने का फैसला किया गया। दूसरा चक्र बजट सत्र 2006 से पुन: शुरू होगा जिसकी प्रगति रपट इस पुस्तक के अंतिम पृष्ठों पर परिशिष्ट के रूप में देखा जा सकता है, या कार्यालय को पत्र लिखकर यह जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

      जिन सांसदों से वोटरशिप की यह याचिका लोकसभा में पेश करने का निवेदन किया गया, उनकी सूची के लिए अध्याय-14 का अवलोकन करें।

(घ) समिति का पता-

सुझाव/षिकायत/पूंछताछ/सहयोग करने के लिए -

फोन करें - 9818433422,9868062400, 9313041596, 0121-2763037

पत्र लिखें -   सुनील आनंद, प्रभारी-याचिका समिति कार्यालय

              बी 5/124 पष्चिम विहार, दिल्ली-110063

              ई मेल करें - bgandhi_pse@votership.com

                                वेब साइट & www.fefm.org

                                        -  www.votership.com का अवलोकन करें।

     

2.   आर्थिक आजादी आंदोलन परिसंघ का परिचय-

      आर्थिक आजादी आंदोलन परिसंघ के परिचय के लिए इस याचिका के

अध्याय-12.3 का संदर्भ लें।                               

3.   आर्थिक आजादी आन्दोलन परिसंघ द्वारा संपादित कार्य-   

      (क)   ''उभरती विष्व व्यवस्था'' पर संगोश्ठी  (18 जुलाई, 1999)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ख)   ''डंकल से कैसे लड़े किसान'' विशय पर गोश्ठी (01 अगस्त, 1999

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ग) ''विष्व अर्थव्यवस्था युग का घोशणापत्र'' विशयक गोश्ठी (14, 15 नवम्बर,1999)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक  जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (घ)   डब्लू.टी.ओ. के जिनेवा कार्यालय की यात्रा व ज्ञापन (4 जनवरी, 2001)

      (ड.)   130 गांवों में परिवर्तन संदेष पद यात्रा  (20 मई से 13 अगस्त, 2000)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक  जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (च) ''भारत के संविधान में संषोधन प्रस्ताव'' का आत्मापर्ण एवं ज्ञापन के रूप में राश्ट्रपति को प्रेशण  (15 अगस्त, 2000)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक  जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (छ) ''आर्थिक लोकतंत्र'' पर (जनपद स्तरीय) सर्वदलीय सम्मेलन (14 अगस्त, 2002)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक         जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ज) ''वोटर पेंषन (वोटरषिप) व दक्षिण एषियाई नागरिकता'' पर सर्वदलीय सम्मेलन (1 अक्टूबर, 2002)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक   जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (झ) ''दक्षिण एषियाई वतन की घुटन खत्म करने में देषी सरकारों द्वारा उपेक्षित लोगों की रणनीति''  विशय पर सम्मेलन  ( 30 जनवरी, 2003)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक   जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ञा) ''वोटर पेंषन'' (वोटरषिप) के लिये प्रदर्षन  (14 अगस्त, 2003)

         निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक  जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ट)  ''वोटर पेंषन'' के लिए मतदाताओं का प्रदर्षन   (1 अक्टूबर, 2003)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक    निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक  जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ठ) ''दक्षिण एषियाई नागरिकता व वोटर पेंषन'' के लिए प्रदर्षन  (30 जनवरी, 2004)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ड) ''वोटर पेंषन व दक्षिण एषियाई नागरिकता'' पर दिल्ली प्रदेष के लोकसभा के आम चुनाव - 2004 के प्रत्याषियों का सम्मेलन (11 जुलाई, 2004)

           निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ढ़) ''वोटर पेंषन'' (वोटरषिप) के लिये जन्तर-मन्तर, दिल्ली में प्रदर्षन  (14 अगस्त, 2004)

         निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (ण) ''दक्षिण एषियाई नागरिकता व वोटरशिप की रकम बढ़ाने पर'' पत्रकारिता एवं जनसंचार संस्थान, चौ0 चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ के संयुक्त तत्वावधान में गोष्ठी'' (18 सितम्बर,2005)

         निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      (त) ''वोटरशिप पर सांसदों की गोष्ठी,स्पीकर सभागार, कांस्टीटयुशन क्लब, नई दिल्ली में '' (56दिसम्बर,2005)

         निमंत्रण पत्र  ज्ञापन प्रपत्र  प्रेस विज्ञप्ति   प्रेस कवरेज- अमर उजाला, दैनिक जागरण, राश्ट्रीय सहारा, अन्य

      आर्थिक आजादी आंदोलन परिसंघ द्वारा संपादित उक्त कार्यो से परिचय के

 लिए इस याचिका के अध्याय-12.3 का संदर्भ लें।

वोटरशिप होमपेज

 


copyright                                                                                                                               The webpage is developed by

भरत गांधी कोरोनरी ग्रुप                                                                                                         Naveen Kumar Sharma