Votership


     वोटरशिप मूल भावसंदेशहोम पेज भरत गांधीसंम्पर्क करेंडाउनलोड्स

वोटरशिप होमपेज

अध्याय-एक

मूल भाव                                                   

1. उद्देष्य व परिभाशायें-                      

  1. याचिका देने वालों का प्रार्थना में निहित उद्देष्य         

  2.  परिभाशायें :-                                    

      (क) प्रार्थना में प्रयुक्त षब्दावली व पदावली          

      (ख) याचिका में प्रयुक्त षब्दावली व पदावली         

अध्याय-दो

  वोटरशिप पर लोकसभा में याचिका : एक कानूनी परीक्षण  

अध्याय-तीन

वोटरषिप के प्रस्ताव के विरूध्द प्रमुख आपत्तियां

1. गरीब नागरिकों सम्बन्धी तर्क          

      (क) गरीब लोग षराब पी जायेंगे (?)               

      (ख) गरीब लोग जनसंख्या बढ़ायेंगे (?)             

      (ग) गरीब लोग काम करना बन्द कर देंगे (?)       

      (घ) गरीबों को गरीबी भत्ता मिले: सबको वोटरषिप नहीं (?)   

      (ड.) वोटरषिप केवल गरीबों को मिलें, सबको नहीं (?) 

2. विकास सम्बन्धी तर्क                  

      (क) विकास अवरूध्द हो जायेगा (?)               

      (ख) निवेष के लिये पैसा नहीं मिलेगा (?)          

      (ग) काम मिले, पैसा नहीं; जिससे विकास हो (?)    

      (घ) रोजगार के अवसर खत्म हो जायेंगे (?)        

      (ड.) लोगों को एक-एक रूपया मिल भी गया, तो कोई लाभ नहीं (?)     

3.  असंभावना सम्बन्धी तर्क            

      (क) सरकार के पास पैसा नहीं है (?)              

      (ख) वोटरषिप के लिये अमीर लोग अपना पैसा टैक्स में क्यों देंगे (?)  

      (ग) बेरोजगार होने वाले सरकारी अधिकारी विरोध में उतरेंगे (?)

      (घ) दलित व पिछड़े वर्ग के नेता मतदाताओं में फूट डालेंगे (?) 

      (ड.)        स्वाभिमानवादी नेता आर्थिक न्याय की बजाय

         सामाजिक न्याय का मामला  उछालेंगे (?)       

             सामाजिक समता के बावजूद यूरोप में आर्थिक विशमता बरकरार

             आर्थिक वर्णव्यवस्था सामाजिक वर्णव्यवस्था की जननी                                   

      (च) घाटे के बजट में वोटरषिप असंभव (?)         

      (छ) गले नहीं उतरती (?)                       

      (ज) वोटरषिप देने के लिये सरकार पैसा कहाँ से लाएगी (?)    

4. अन्य तर्क                          

      (क) देष पर कर्ज है (?)                         

      (ख) डार्विन ने कहा था- मजबूत ही जीवित रहेगा (?) 

      (ग) असम्भव कार्य (?)                         

      (घ) मंहगाई बढ़ जायेगी (?)                      

      (ड.) वोट की खरीद-बिक्री को प्रोत्साहन मिलेगा (?)   

      (च) आरक्षण को बढ़ावा (?)                      

      (छ) भ्रश्ट लोग यह रकम भी खा जायेंगे (?)        

      (ज) दुनिया के किसी देष में नहीं है (?)            

      (झ) व्यापारियों का नुकसान होगा (?)              

      (ञा) काम करने को मजदूर नहीं मिलेंगे (?)        

      (ट) केवल वोट देने वालों को मिले (?)             

      (ठ) न्यूनतम जरूरतों की गारंटी मिले, वोटरषिप नहीं (?)

      (ड) वोटरषिप नहीं, विकेन्द्रित अर्थव्यवस्था अपनाई जाये (?)    

      (ढ.) अर्थषास्त्री वोटरषिप के खिलाफ (?)            

      (ण) आर्थिक आंकड़े महज धोखा (जग्लरी) है (?)                    

      (त) आदिवासी क्षेत्रों के लोग वोटरषिप की रकम

          ए.टी.एम. मषीनों से निकाल ही नही पायेंगे (?)               

      (थ) पहले वोटरषिप पर सेमिनार करके बुध्दिजीवी एकमत  हों (?)       

      (द) वोटरषिप के लिए चुनावों से जनादेष मांगा जाए (?)                   

      (ध) समस्याओं का समाधान नही, दबाव बनाने की योजना (?)      

अध्याय-चार

4.  माक्र्सवाद और वोटरषिप                      

      1. वोटरषिप को वामपंथियों की नई रणनीति मानने वालों की आषंकाएं

      (क) वोटरषिप भी माक्र्सवाद ही है, जो फेल हो गया (?)

   पूंजीपति व पूंजीवादी अलग-अलग लोग हैं

  आर्थिक न्याय के संघर्श के केन्द्र में अब मजदूर की बजाय मतदाता

(ख) कम्युनिस्ट क्रांति निश्फल हो गई, वोटरषिप से भारत का रूस जैसा

      हस्र होगा (?)                                  

2.  वोटरषिप के खिलाफ माक्र्सवादियों की आषंकाएं  

      (क) जमींन बंटे, पैसा नही (?)                      

      (ख) माक्र्सवादी सिध्दांत के अनुरूप नही, अत: माक्र्सवादियों का

         समर्थन असंभव (?)                          

      (ग) पूंजीवाद व वैष्वीकरण की रक्षा का उपाय (?)      

           (घ)  वोटरषिप से बहुराश्ट्रीय सरकार बनाने की मांग उठ जाएगी (?)         

                                 

वोटरशिप होमपेज

 


copyright                                                                                                                               The webpage is developed by

भरत गांधी कोरोनरी ग्रुप                                                                                                         Naveen Kumar Sharma